विद्यालय

मंजीतसिंहनारंग।हरचुनावमेंहरराजनीतिकदलकईवादेकरताहै।इनवादोंमेंकितनेपूरेहोतेहैंऔरकितनेनहीं,यहकहनामुश्किलहै।ऐसाशायदहीहोताहैकिकोईदलअपनेघोषणापत्रकेसभीवादोंकोपूराकरताहो।इनघोषणाओं,वादोंकोरोकनेकीमांगउठतीरहीहैलेकिनसवालयहीहैकिइन्हेंरोकेगाकौन?

चुनावीघोषणाओंकोरोकनानतोचुनावआयोगकेबसमेंहैऔरनहीअदालतके।क्योंकिसंविधानमेंराजनीतिकदलोंकीघोषणाओंकोरोकनेकाकोईउल्लेखहीनहींहै।असलमेंइसीबातकाफायदाराजनीतिकदलउठातेहैंऔरचुनावमेंऐसी-ऐसीघोषणाएंकरतेहैं,जिन्हेंपूराकरपानाकिसीहालमेंसंभवनहींहोता।यहबातराजनीतिकदलोंकोभीपताहैकिवेअगरसत्तामेंआजाएंतोअपनीघोषणाओंकोपूराकरपानाउनकेलिएभीसंभवनहीं।लेकिनजितनाढिंढोरापीटतेहुएघोषणाएंकीजातीहैं,नचाहतेहुएभीलोगोंकोउनपरविश्वासहोजाताहै।असलबातयहभीहैकिउसशोरकेबीचलोगयहसमझनेकाप्रयासकरतेभीनहींहैंकिक्यासंभवहैऔरक्यानहीं।एकभ्रमकाजालबिछजाताहै।इसभ्रमकेजालमेंसबउलझतेजातेहैं।अंतमेंजिनवादोंपरकामनहींहोता,उनमेंलोगछलामहसूसकरतेहैं।

जनताकेसाथराजनीतिकदलयहविश्वासघातनकरसकें,इसलिएउनकेघोषणापत्रकोकानूनीदस्तावेजमाननेकीमांगहरचुनावमेंउठतीहै।चुनावआयोगभीइसतरहकीबातकहतारहाहै।2017मेंइसीतरहकाप्रस्तावआयाथा।तबहमनेइसप्रस्तावकोचुनावआयोगकोभेजदियाथा।संभवत:आयोगनेभीप्रस्तावकोकेंद्रसरकारकोभेजदियाथा।दरअसलराजनीतिकपार्टियोंकेघोषणापत्रकोकानूनीदस्तावेजबनानेकोलेकरपहलेसंसदमेंकानूनबनानाहोगा।कानूनकेवलसंसदहीबनासकतीहै।चुनावआयोगयाकोर्टनहीं।चुनावआयोगयादेशकीसबसेबड़ीअदालततोयहदेखसकतेहैंकिकानूनकाउल्लंघनतोनहींहोरहाहै।लेकिनगलतक्याहैसहीक्याहैयेतोकानूनबननेकेबादहीपताचलेगा।जबतककेंद्रसरकारघोषणापत्रकोकानूनीदस्तावेजमाननेकेलिएकानूननहींबनाएगी,तबतकइनघोषणाओंपररोकनहींलगाईजासकतीहै।यहपार्टियोंकीइच्छाशक्तिपरनिर्भरहै?असलमेंकईराजनीतिकदलभीजानतेहैंकियदिऐसाहुआतोउनकीराजनीतिखतरेमेंपड़जाएगी।

[पूर्वअतिरिक्तमुख्यचुनावअधिकारी,पंजाब]

By French