विद्यालय

पटना,अरुणअशेष।BiharAssemblyElection2020:विधानसभाचुनावकेसमयपार्टीटिकटकेलिएआपाधापीबेवजहनहींमचतीहै।दरअसल,किसीदलकेटिकटकेबिनाविधानसभामेंप्रवेशकारास्ताधीरे-धीरेसंकराहोताजारहाहै।यहरास्तानिर्दलीयउम्मीदवारीकेजरिएविधानसभातकलेजाताहै।पिछले30वर्षोंमेंइसकीउपयोगिताकमहुईहै।बीचकीअवधिमेंवहसमयभीआयाथा,जबनिर्दलीयविधायकसरकारबनानेमेंअहमहोगएथे।2000केविधानसभाकीसंरचनाऐसीथी,जिसमेंबगैरनिर्दलीयकीमददकेकिसीकीसरकारनहींबनती।उनकीमददसेनीतीशकुमारसातदिनोंकेलिएमुख्यमंत्रीबनेथे।सातदिनबादराबड़ीदेवीकीसरकारबनी।उसमेंनिर्दलीयविधायकोंकीमांगइतनीअधिकथीकिउन्हेंंमंत्रीतकबनायागया।अभीजदयूकेविधायकददनयादवनिर्दलीयकीहैसियतसेहीराबड़ीदेवीमंत्रिपरिषदमेंराज्यमंत्रीबनेथे।उसकेबादददनभीदलीयउम्मीदवारकीहैसियतसेचुनावजीतरहेहैं।

निर्दलीयकेलिएस्वर्णकालथा1990काचुनाव

राज्यमेंनिर्दलीयराजनेताओंकेलिए1990काविधानसभाचुनावस्वर्णकालथा।एकीकृतबिहारविधानसभाकी324मेंसे30सीटोंपरउनकीजीतहुईथी।विधानसभामेंकिसीदलकोबहुमतनहींमिलाथा।इसकेबावजूदनिर्दलीयोंकीखासपूछनहींथी,क्योंकिकांग्रेसविरोधकेनामपरसभीदलोंनेलालूप्रसादकीअगुआईवालीजनतादलसरकारकासमर्थनकियाथा।यहांतककिभाजपानेभीलालूप्रसादकेसमर्थनमेंराज्यपालकोपत्रलिखाथा।नतीजतनसंख्यामेंअधिकहोनेकेबावजूदनिर्दलीयविधायकबेमोलरहगए।

मौकामिलातोडालदियासांसतमें

1995केचुनावमेंलालूप्रसादकोअपारसमर्थनमिला।वहअपनेदमपरसरकारबनाचुकेथे।उसस्थितिनेनिर्दलीयकोहतोत्साहितकिया।1990कीतुलनामेंउनकीसंख्याभीकमहोगईथी।वे30सेघटकर11परआगएथे।2000केविधानसभाचुनावमेंत्रिशंकुविधानसभाकेचलतेस्थितिऐसीबनीकिबिनानिर्दलीयकीमददकेकिसीकीसरकारनहींबनसकतीथी।विधानसभामेंउनकीसंख्या20थी।उनकीमददसेबारी-बारीसेनीतीशकुमारऔरराबड़ीदेवीकीसरकारबनी।सूरजभान,राजनतिवारी,रामासिंहजैसेनिर्दलीयविधायकउन्हींदिनोंचर्चामेंआएथे।

इतनाउछलेकिगिनतीकेरहगए

2005मेंनिर्दलीयविधायकोंकीपूछबढ़ीथी।फरवरीमेंहुएविधानसभाचुनावमेंउनकीसंख्या17थी।त्रिशंकुविधानसभामेंहैसियतबढ़रहीथी।मोलभावहोरहाथा,लेकिनविवादबढऩेकेबादकिसीकीपार्टी-नेताकीसरकारनहींबनपाई।विधानसभाभंगहोनेकेचलतेअक्टूबर-नवंबरमेंदोबाराचुनावहुआ।निर्दलीय17सेघटकरदसपरआगए।सरकारबनानेकेलिएजदयू-भाजपाकेपासजरूरीसंख्याबलथा,लिहाजानिर्दलीयविधायकोंकीभूमिकागौणहोगई।उसकेअगलेचुनावमेंतोउनकीभूमिकाऔरकमहोगई।2010मेंजदयू-भाजपागठबंधनकोदोतिहाईबहुमतमिलगयाथा।उसचुनावमेंकुलछहनिर्दलीयजीतकरआएथे।सरकारबनानेयाचलानेकेलिएइनकीजरूरतनहींरहगईथी।

ऐसादौरकिजरूरतहीनहींरही

2015काचुनावभीनिर्दलीयराजनेताओंकेलिएकुछअच्छानहींरहा।एकतोसंख्यासिर्फचाररही।उपरसेमहागठबंधनकेदलोंकोसरकारबनानेकेलिएजरूरतसेअधिकविधायकमिलगएथे।बादमेंजदयू-भाजपाएकसाथहुए,तबभीनिर्दलीयविधायकोंकीजरूरतनहींरहगईथी।हालांकिदोविधायकोंनेसरकारकोअपनाएकतरफासमर्थनदिया।

दबंगईवलोकप्रियतावजूदकेआधार

दबंगहोनानिर्दलीयविधायकोंकीसबसेबड़ीपूंजीहोतीथी।एकपूंजीउनकीलोकप्रियताभीहोतीथी।ऐसेनेतायाविधायक,जिनकीक्षेत्रमेंकामकेबलपरछविबनीहुईहै,उन्हेंंकिसीकारणसेबेटिकटकियागयाहैतोवेनिर्दलीयउम्मीदवारकीहैसियतसेचुनावजीतजातेथे।कांग्रेसशासनकालमेंयहखूबहोताथा।बैलेटछापनेकादौरभीनिर्दलीयउम्मीदवारोंकीजीतमेंमददकरताथा।ईवीएमकेआनेकेबादयहसंभवनहींहोपारहाहै।दलोंकीअधिकसंख्यानिर्दलीयउम्मीदवारोंकीबाढ़रोकनेमेंमददगारसाबितहुईहै।कईऐसेलोगजोनिर्दलीयचुनावलड़सकतेहैं,उनमेंसेअधिसंख्यकोकिसीनकिसीदलकाटिकटमिलहीजाताहै।

टिकटोंकेबढ़ेबाजारभावकीअसलीवजह

मतदाताचाहतेहैंकिउनकाविधायककिसीदलसेजुड़ाहो।खासकरउसदलसे,जिसकीसत्तामेंआनेकीसंभावनाहो।यहभावक्षेत्रकेविकासकीआकांक्षासेप्रेरितहोताहै।यहीभावउम्मीदवारोंकोदलीयटिकटहासिलकरनेकेलिएप्रेेरितकरताहै।यहजोटिकटोंकेबढ़ेहुएबाजारभावकीचर्चाहोतीहै,यहइन्हींउम्मीदवारोंसेनियंत्रितहोताहै।

चुनावकावर्ष:निर्दलीयउम्मीदवारोंकीसंख्या:विजयीउम्मीदवार:मतप्रतिशत

1990                          4320                                    30                  18.42

1995                          5674                                    11                  13.8

2000                          1442                                    20                  11.4

2005(फरवरी)            1493                                    17                  16.16

2005(अक्टूबर)            766                                      10                  8.77

2010                          1342                                    06                  13.22

2015                          1150                                    04                  9.4

By Fuller