विद्यालय

अभयप्रताप।भारतकीसबसेप्रतिष्ठितपरीक्षाओंमेंसेएकसंघलोकसेवाआयोगद्वाराआयोजित2022कीसिविलसेवाप्रारंभिकपरीक्षाआगामीपांचजूनकोप्रस्तावितहै।इसपरीक्षाकोउत्तीर्णकरनेकेबादहीएकनिश्चितसंख्यामेंअभ्यर्थियोंकोमुख्यपरीक्षामेंशामिलहोनेकाअवसरमिलताहै।

परीक्षाकेविभिन्नचरण:यहपरीक्षाकुलतीनचरणोंमेंहोतीहै।प्रारंभिकपरीक्षा,मुख्यपरीक्षातथासाक्षात्कार।अंतिमरूपसेचयनकाआधारमुख्यपरीक्षाऔरसाक्षात्कारमेंमिलेअंकोंकेआधारपरहोताहै।प्रारंभिकपरीक्षाएकस्क्रीनिंगपरीक्षाहोतीहैजोअभ्यर्थियोंकेभीड़कोकमकरतीहै।

प्रारंभिकपरीक्षापैटर्न:प्रारंभिकपरीक्षामेंदोपेपरहोतेहैंपेपरएकसामान्यअध्ययनकाहोताहै,जबकिपेपरदोमेंएप्टीट्यूडटेस्ट(सीसैट)काहोताहै।दूसरापेपर(सीसैट)सिर्फक्वालीफाइंगप्रकृतिकाहोताहैजिसमेंकुल33प्रतिशतअंकलानेहोतेहैं।यहपेपर200अंकोंकाहोताहै,जिसमेंकुल80प्रश्नहोतेहैं।इसप्रश्नपत्रमेंनकारात्मकअंकोंकाभीप्रविधानहैजोएक-तिहाईहोताहैयानीयदिआपतीनगलतप्रश्नकरतेहैंतोएकसहीप्रश्नकेलिएमिलाअंककमहोजाएगा।इसप्रश्नपत्रमेंगणित,बोधगम्यता,संचारकौशलसहितअंतर-वैयक्तिककौशल,तार्किककौशलएवंविश्लेषणात्मकक्षमता,निर्णयलेनेऔरसमस्यासमाधान,सामान्यमानसिकयोग्यताआदिसेसंबंधितप्रश्नपूछेजातेहैं।

सामान्यअध्ययनप्रश्नपत्रमेंमिलेअंकोंकेआधारपरप्रारंभिकपरीक्षाउत्तीर्णकरनाहोताहै।गौरतलबहैकिइसपेपरमेंकुल100प्रश्न200अंकोंकेहोतेहैंयानीहरप्रश्नदोअंककाहोताहै।इसमेंभीएक-तिहाईनकारात्मकअंकोंकाप्रविधानहै।चूंकिसामान्यअध्ययनप्रश्नपत्रमेंमिलाअंकहीप्रारंभिकपरीक्षामेंउत्तीर्णहोनेकाआधारहै,इसलिएइसपेपरपरज्यादाध्यानदेनेकीआवश्यकताहोतीहै।हालांकिसीसैट(दूसरापेपर)काभीप्रतिदिनअभ्यासजरूरीहै।

सामान्यअध्ययनकीक्याहोरणनीति:यदिहमसामान्यअध्ययनप्रश्नपत्रकेपाठ्यक्रमपरनजरडालें,तोइसमेंराष्ट्रीयऔरअंतरराष्ट्रीयमहत्वकीवर्तमानघटनाएं,भारतकाइतिहासऔरभारतीयराष्ट्रीयआंदोलन,भारतऔरविश्वकाभूगोल(भौतिक,सामाजिक,भारतऔरविश्वकाआर्थिकभूगोल),भारतीयराजनीतिऔरशासन-संविधान,राजनीतिकव्यवस्था,पंचायतीराज,सार्वजनिकनीति,अधिकारमुद्देआदिविषयोंसेसम्बंधितप्रश्नपूछेजातेहैं।अतःपाठ्यक्रमऔरविगतवर्षोंमेंपूछेगएप्रश्नोंकेआधारपरइसपेपरकीरणनीतिबनानेकीआवश्यकताहै।

यदिविगतपांच-छहवर्षोंकाकटआफदेखें,तो200केपूर्णांकमेंसेयहऔसतन105-112अंकतकजाताहै(निगेटिवअंकोंकोहटाकर)।अतः100मेंसेकमसेकम52-56सहीप्रश्नकरनेहोतेहैं।सिविलसेवापरीक्षाकेप्रारंभिकपरीक्षामेंसफलतासुनिश्चितकरनेकेलियेविगतछहवर्षोंमेंप्रारंभिकपरीक्षामेंपूछेगएप्रश्नोंकासूक्ष्मअवलोकनकरनाचाहिए।उनविषयोंपरज्यादाध्यानदेनाचाहिए,जिनसेविगतवर्षोंमेंप्रश्नपूछनेकीप्रवृत्तिज़्यादारहीहै।प्रत्येकवर्षकुछविषयोंसेप्रश्नज्यादारहतेहैं,जैसे-आधुनिकभारतकाइतिहास,कला-संस्कृति,पर्यावरण-पारिस्थितिकी,राष्ट्रीयऔरअंतरराष्ट्रीयमहत्वकीवर्तमानघटनाएंआदि।इनसभीविषयोंपरज्यादाध्यानदें।

इसप्रश्नपत्रमेंसबसेबड़ीभूमिकाराष्ट्रीयऔरअंतरराष्ट्रीयमहत्वकीवर्तमानघटनाओंकीहोतीहै।इसखंडसेप्रत्यक्षयाअप्रत्यक्षरूपसे30-35प्रश्नहोतेहैंजिसमेंसमसामयिकघटनाओंकोविज्ञानप्रौद्योगिकी,भूगोल,राजनीतिकव्यवस्था,सरकारकीनीतियोंआदिसेजोड़करप्रश्नपूछाजाताहैजोअभ्यर्थियोंकेलिएकिसीचुनौतीसेकमनहींहोताहै।सामान्यअध्ययनकीतैयारीकरतेसमययहध्यानरखनाभीजरूरीहैकिइसमेंसभीविषयोंकेप्रश्नकाफीगहरेस्तरकेहोतेहैंऔरवेविषयकीबुनियादीसमझकीमांगकरतेहैं।अतःजरूरीहैकिअभ्यर्थियोंकोउनविषयोंपरपकड़बनानीचाहिए,जिनमेंउनकीगहरीरुचिहै।

इनकिताबोंकालेंसहयोग:प्रारंभिकपरीक्षाहेतुसबसेपहलेकुछस्तरीयपुस्तकोंकीमददसेअध्ययनकरें,जैसे-एनसीईआरटीकीपुस्तकों(इतिहास,भूगोल,राजनीतिविज्ञानआदि)केसाथ-साथएमलक्ष्मीकांत(राजनीतिविज्ञान,आर्टएंडकल्चर(नितिनसिंघानिया,आक्सफ़ोर्डएटलस(विश्वभूगोल),रमेशसिंह(अर्थव्यवस्था),राजीवअहीर(आधुनिकभारतकाइतिहास)आदि।करेंटअफेयर्सऔरजनरलअवेयरनेसहेतुप्रतिदिनअच्छेसमाचारपत्रऔरस्तरीयपत्रिकाओंकाअध्ययनआवश्यकहै।प्रारंभिकपरीक्षामेंप्रश्नोंकीप्रकृतिवस्तुनिष्ठ(बहुविकल्पीय)होतीहै,जिसमेंतथ्योंएवंअवधारणाओंपरआधारितप्रश्नपूछेजानेकीप्रवृतिरहीहै,इसलिएविभिन्नविषयोंकीतथ्यात्मकजानकारीकेसाथ-साथउनकेअवधारणात्मकपहलुओंकोभीध्यानमेंरखकरअध्ययनकरनाचाहिए।चूंकिप्रारंभिकपरीक्षामेंअबज्यादासमयनहींहै,इसलिएपढ़ाईकोनियमितरूपसेअनुशासितहोकरकरेंऔरलंबेगैपसेबचें।

इनबिंदुओंपरदेंविशेषध्यान

[एजुकेटरअनएकेडमी]

By Gibbons