विद्यालय

नईदिल्ली,पीटीआइ।मौजूदापुलिसप्रणालीकोलेकरअक्‍सरहीसवालउठतेरहेहैं।अबपुलिसप्रणालीकोपारदर्शी,स्वतंत्र,जवाबदेहएवंजनहितैषीबनानेकेलिएसुप्रीमकोर्टसेगुहारलगाईगईहै।सुप्रीमकोर्टमेंइसबाबतएकयाचिकादाखिलकरएक'आदर्शपुलिसविधेयक'बनानेकेलिएकेंद्रसरकारकोनिर्देशदेनेकीमांगकीगईहै।यहयाचिकाअधिवक्ताऔरदिल्लीभाजपाकेपूर्वप्रवक्ताअश्विनीउपाध्यायनेदाखिलकीहै।

केंद्रकोनिर्देशदेनेकीमांग

उपाध्यायनेयाचिकामेंअपीलकीहैकिकेंद्रकोएकन्यायिकआयोगयाएकविशेषज्ञसमितिबनानेकानिर्देशदियाजाएजोविकसितदेशों,खासतौरपरअमेरिका,सिंगापुरऔरफ्रांसकेपुलिसकानूनोंकाअध्ययनकरेऔरआदर्शपुलिसविधेयककामसौदातैयारकरे।उनकीइसजनहितयाचिकापरजल्दसुनवाईहोसकतीहै।

देशमेंजनताकीपुलिसनहीं

याचिकामेंकहागयाकि1984केदंगे,1990मेंकश्मीरीहिंदुओंपरअत्याचारऔरबंगालमें2021मेंभीयहीहुआऔरवहभीदिनदहाड़े,लेकिनपुलिसनेकुछनहींकिया,क्योंकिहमारेपासशासकोंकीपुलिसहै,जनताकीपुलिसनहीं।

प्रभावहीनहोगयाहैपुलिसअधिनियम

याचिकामेंयहभीदलीलदीगईहैकिऔपनिवेशिकपुलिसअधिनियम1861प्रभावहीनऔरपुरानाहोगयाहैऔरयहकानूनव्यवस्था,स्वतंत्रताएवंसम्मानसेजीवनजीनेकेअधिकारोंकोकायमरखनेमेंविफलहोगयाहै।

कानूनकेशासनकेलिएबड़ाखतरा

याचिकामेंयहभीकहागयाहैकिकईबारपुलिससत्तारूढ़पार्टीकेविधायकोंयासांसदोंकीसहमतिकेबिनाप्राथमिकीदर्जनहींकरती।पुलिसकायहराजनीतीकरणलोगोंकीस्वतंत्रता,उनकेअधिकारोंएवंकानूनकेशासनकेलिएबड़ाखतराहै।

सुप्रीमकोर्टनेकीथीतल्‍खटिप्‍पणियां

उल्‍लेखनीयहैकिहालहीमेंसुप्रीमकोर्टनेजजोंकीसुरक्षाकोलेकरगंभीरचिंताजताईथी।इसमसलेपरसुप्रीमकोर्टनेतल्‍खलहजेमेंकहाथाकिजजोंकोधमकियांअत्यधिकगंभीरमामलाहै।पुलिस,आइबीयासीबीआइजैसीएजेंसियोंसेभीजबइसबारेमेंशिकायतकीजातीहैतोकईबारवेइसपरध्यानदेनातोदूरजवाबतकनहींदेतीहैं।अदालतनेयहभीकहाथाकिआइबीऔरसीबीआइन्यायपालिकाकीकोईमददनहींकररहीहैं।पढ़ेंपूरीरिपोर्ट- सुप्रीमकोर्टनाराज,कहा-शिकायतोंपरपुलिसऔरसीबीआइनहींदेतींध्यान

By Frost